9 साल की लड़की के साथ 10 साल के लड़के ने किया कुकर्म, झाड़ियों के पीछे बुरी हालत में मिली बच्ची

हम कहते तो हैं कि हम एक सभ्य समाज का हिस्सा है। हालांकि हमारी कथनी की पोल खोलने के लिए रोज आने वाले अखबार ही काफी है। हर रोज़ अखबार ऐसे समाचारों से भरा हुआ रहता हैं, जो इंसानियत से कोसों दूर है। हम हर रोज पढ़ते हैं और सोचते हैं इंसान और कितनी नीचे गिरेगा, हालांकि हर नए दिन इंसानों के गिरने का सिलसिला पहले से कहीं ज़्यादा होता जाता है। लड़कियों के साथ कुकर्म की खबर तो अब लगता है सामान्य हो गयी हैं, लागभग हर शहर से ऐसे कई प्रकरण सामने आते ही रहते हैं। यहां तक की यह अमानवीय लोग नाबालिग बच्चियों तक को नहीं छोड़ते। मगर आज जो खबर हम आपको बताने जा रहे हैं वो सब से ज़्यादा भयानक है, क्योंकि इसका सीधा संबंध हमारे भविष्य से जुड़ा हुआ है। 

दरअसल आपने अभी तक जितने भी कुकर्म के मामले सुने होंगे उसमें आरोपी कोई वयस्क ही रहता है। मगर बिहार के भागलपुर में जो मामला सामने आया है उसमें 9 साल की बच्ची के साथ गंदा काम करने वाला वयस्क नहीं बल्कि 10 साल का एक बच्चा है। यह मामला भागलपुर के इशाकचक थाना क्षेत्र का है। 

रपट के अनुसार 9 साल की बच्ची के साथ ज़्यादती हुई और ज़्यादती करने वाला लड़की के ही पड़ोस में रहने वाला 10 साल का बच्चा है। लड़की की माँ ने आरोपी 10 साल के बच्चे के खिलाफ दुष्कर्म का मामला भी ठोंक चुकी है। पुलिस के सामने मामला जैसी ही आया वो खुद हैरान रह गयी। फिलहाल मामले की जांच चल रही है। 

पीड़ित लड़की की माँ ने जो रपट लिखाई उसके अनुसार यह घटना मंगलवार की बताई। इस दिन भी उनकी बेटी खेलने के लिए हर दिन की तरह बाहर गयी हुई थी। काफी समय हो गया और लड़की जब घर नहीं पहुंची तो परिजनों को उसकी चिंता सताने लगी। परिवार वालों ने तलाशा तो उनकी बेटी झाड़ियों के पास बुरी हालत में मिली। जब परिवार वालों ने लड़की से पूरा मामला पूछा तो उसने बताया कि रेलवे लाइन झोपड़पट्टी में रहने वाले लड़के ने उसके साथ गंदा काम किया है।

मामले की पुलिस तफ्तीश कर रही है। लड़की का बयान दर्ज कर लिया गया है और बुधवार को उसे मेडिकल के लिए भी भेज दिया गया। यह खबर हमें चिंता और खबरदार दोनों कर रही है। 10 साल का वो बच्चा जिसने इस काम को अंजाम दिया होगा उसकी मानसिक स्थिति क्या होगी यह हम कल्पना भी नहीं कर सकते। हमें यहां यह भी विचार करना होगा कि क्या हमारी शिक्षा और संस्कार प्रणाली हमारी नई पीढ़ी तक ठीक से पहुंच पा रहे हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.