सुशांत मामले में फर्जी खबर फैलाना आजतक को पड़ा महंगा, NBSA ने घनघोर बेज्जती करते हुए सुनाया यह फैसला

सुशांत सिंह राजपूत मामले में पिछले 4 महीनों से मीडिया में खबर चल रही है। इनमें से कुछ खबर सही होती तो ज़्यादातर खबर फर्जी होती। इससे लोगों का विश्वास पत्रकार और पत्रकारिता पर उठता जा रहा था। मामले की गंभीरता देखते हुए NBSA यानी कि न्यूज़ ब्रॉडकास्टर्स एसोसिएशन ने हस्तक्षेप करते हुए कड़ी कार्यवाही की और आजतक को फर्जी खबर फैलाने के जुर्म में मंगलवार 27 अक्टूबर को रात 8 बजे बड़े शब्दों में माफी मांगने का आदेश दिया है। 

 

सिर्फ इतना ही नहीं इस चैनल को माफी के साथ एक लाख का जुर्माना भी भरना होगा, गौरतलब है कि आजतक चैनल ने सुशांत का आखरी ट्वीट बता कर एक फर्जी ट्वीट टीवी पर चला दिया था। जिस पर नीलेश नवलखा नाम के व्यक्ति ने जून 20, 2020 को आपत्ति दर्ज की थी। इसी आपत्ति पर कार्यवाही करते हुए NBSA ने यह निर्णय लिया है।

NBSA ने मामले में आदेश देते हुए कड़े शब्दों में आजतक चैनल को कहा है कि उन्हें माफी लिख कर मांगनी है और चैनल और चलाना है। माफी नामें की लिखावट बड़े शब्दों में होना अनिवार्य है। साथ ही मद्धम आवाज में पीछे इस माफी नामें को पढ़ कर भी सुनाना है। इसके साथ ही एक लाख का जुर्माना भी चैनल को चुकाना होगा। 

इसके साथ ही ‘इंडिया टीवी’, ‘ज़ी न्यूज़’ और ‘न्यूज़ 24’ जैसे चैनलों को भी सुशांत सिंह राजपूत मामले में रिपोर्टिंग के दौरान पत्रकारिता के सिद्धांत को खूंटी पर टांगने का दोषी पाया है, इन्हें भी चैनल पर माफीनामा चलाना होगा। बता दें कि ‘ज़ी न्यूज़’ और ‘इंडिया टीवी’ 27 अक्टूबर को माफ़ी माँगेंगे, इसके अलावा ‘न्यूज़ 24’ अक्टूबर 29 को माफ़ी मांगेगा और आजतक 28 अक्टूबर को रात 8 बजे माफी मांगेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.