अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी से नाराजा हुए अमित शाह, महाराष्ट्र सरकार के लिए कही यह बात

अर्नब गोस्वामी और मुम्बई पुलिस के बीच चल रही तल्खियों के बीच अब एक नया मौड़ आ गया है। जिसके तहत आज अर्नब गोस्वामी को उनके घर से गिरफ्तार कर लिया गया है। वहीं जिस मामले में उन्हें गिरफ्तार किया है वो दो साल पहले का है। मुम्बई पुलिस की इस कार्यवाही से जनता में काफी रोष है जो सोशल मीडिया और दिखाई दे रहा है। 

वहीं शिवसेना की कभी सहयोगी रही भाजपा ने भी महारष्ट्र सरकार के खिलाफ मौर्चा खोल दिया है। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से ले कर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद तक ने इस मामले पर प्रतिक्रिया दी है। भाजपा के अनुसार महाराष्ट्र सरकार प्रेस की स्वतंत्रता पर बंधन लगाना चाहती है। वहीं भाजपा ने आज के महाराष्ट्र की तुलना इंदिरा के इमरजेंसी वाले भारत से कर दी है। आइये जानते हैं किसने क्या कहा –

देश के गृहमंत्री अमित शाह ने ट्वीट करते हुए कहा कि –

कांग्रेस और उसके सहयोगियों ने लोकतंत्र को एक बार फिर शर्मसार किया है।

रिपब्लिक टीवी और अर्नब गोस्वामी के खिलाफ राज्य की सत्ता का दुरुपयोग दुरुपयोग व्यक्तिगत स्वतंत्रता और लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पर हमला है।

यह हमें आपातकाल की याद दिलाता है। फ्री प्रेस पर यह हमला होना चाहिए और इसका विरोध होगा।

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने ट्वीट करते हुए कहा – वरिष्ठ पत्रकार # अर्नबगोस्वामी की गिरफ्तारी गंभीर रूप से निंदनीय, अनुचित और चिंताजनक है। हमने 1975 के ड्रैकनियन आपातकाल का विरोध करते हुए प्रेस की स्वतंत्रता के लिए लड़ाई लड़ी थी।

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने लिखा कि “प्रत्येक व्यक्ति जो एक स्वतंत्र प्रेस और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता में विश्वास करता है, महाराष्ट्र सरकार की अर्नब गोस्वामी की बदमाशी और उत्पीड़न पर गुस्सा है। यह सोनिया और राहुल गांधी द्वारा निर्देशित उन लोगों को चुप कराने का एक और उदाहरण है जो उनसे असहमत हैं। शर्मनाक!”

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी ने तंज कसते हुए लिखा – अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी और हाथापाई सिर्फ @Republic नेटवर्क पर हमला नहीं है बल्कि यह भारत गणराज्य की भावना पर हमला है। भाषण और सहिष्णुता की स्वतंत्रता के स्वयंभू चैंपियंस की पिन ड्रॉप मौन गगनभेदी है। #ArnabGoswami

 प्रमोद महाजन की बेटी पूनम महाजन ने प्रसिद्ध दार्शनिक वॉल्टेयर के विचार को कोट करते हुए लिखा – “आप जो कहना चाहते हैं, मैं उससे सहमत नहीं हो सकता, लेकिन मैं आपके कहने के अधिकार की जीवन भर रक्षा करूंगा।” : वॉल्टेयर

एक वरिष्ठ पत्रकार के खिलाफ व्यक्तिगत प्रतिशोध ही लोकतंत्र को कमजोर करेगा।

#ArnabGoswami

Leave a Reply

Your email address will not be published.