अमिताभ बच्चन पर लगा धार्मिक भावना आहत करने का आरोप, KBC का यह सवाल है वजह

टीवी का काफी पुराना और चर्चित शो कौन बनेगा करोड़पति सालों से छोटे पर्दे पर राज कर रहा है। इसके इतने फेमस होने के पीछे का कारण यह है कि यह शो आपको एंटरटेन करने का भी काम करता है और इसके साथ ही आपको इसके माध्यम से पैसे जितने का भी अवसर प्रदान करता है। कौन बनेगा करोड़पति में आपको जाना है, खेलना है और जितना तो उसके लिए आपको हर क्षेत्र से जुड़ी जानकारी होनी जरूरी है। क्योंकि इस शो के सवाल हर क्षेत्र से जुड़े होते हैं। हालांकि कभी कभी कुछ सवाल इस शो को मुश्किलों से भी भर देते हैं, जोकि इन दिनों हो रहा है। 

जी हां अभी हाल ही एपिसोड में अमिताभ ने केबीसी में मनुस्मृति से जुड़ा सवाल पूछा जो अब लोगों के निशाने पर है। यह सवाल लोगों को इतना बुरा लगा कि उन्होंने इसका विरोध सोशल मीडिया पर करना शुरू कर दिया है। सिर्फ इतना ही नहीं केबीसी के मेकर्स और अमिताभ के खिलाफ प्राथमिकी भी दायर कर दी गयी है। यह प्राथमिकी बीजेपी के नेता अभिमन्यु पवार ने लातूर जिले के आउसा में अमिताभ और सोनी टीवी के खिलाफ दर्ज करवाई है। 

अपनी शिकायत में अभिमन्यु ने कहा कि कौन बनेगा करोड़पति ने हिंदुओं की भावना को आहत तो किया ही है मगर साथ ही इस शो ने हिन्दू और बौद्ध के बीच आपसी सौहार्द को भी बिगाड़ने का काम किया है। जिस एपिसोड के सवाल ओर इतना विरोध हो रहा है उस एपिसोड में सामाजिक कार्यकर्ता बेजवाड़ा विल्सन और अभिनेता अनूप सोनी आये हुए थे। जिनसे 6 लाख 40 हजार पर यह सवाल पूछा गया था।

अमिताभ बच्चन ने सवाल पूछा था कि 25 दिसंबर 1927 को भीमराव अंबेडकर और उनके अनुयायियों ने किस धर्म ग्रंथ की प्रतियों को नष्ट किया था। इस जवाब के विकल्प थे – विष्णु पुराण, भगवदगीता, ऋग्वेद और मनुस्मृति। सवाल के जवाब के बाद अमिताभ जैसा करते हैं वैसे ही विस्तृत रूप से इस घटना के बारे में भी बताया। उन्होंने कहा कि अंबेडकर जो मनुस्मृति की आलोचना करते थे उन्होंने कैसे इस ग्रंथ को नष्ट किया था। 

इसी सवाल पर सोशल मीडिया पर विरोध किया जा रहा है। विरोध करने वाले लोगों का कहना है कि इससे हिंदुओ की धार्मिक भावना आहत हुई है। साथ ही यह भी कहा जा रहा है कि यह तमाम विकल्प हिन्दू धर्म ग्रंथो से संबंधित है जिससे स्पष्ट है कि शो के मेकर्स हिन्दू भावनाओ को ही निशाना बनाना चाहते थे। देखिये और भी कुछ ट्वीट्स- 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.