शाहरुख खान की वजह से विक्की के परिवार में आ गया था भूचाल, पिता शाम कौशल ने खुद सुनाई पूरी दास्तान

बॉलीवुड के किंग खान यानी शाहरुख खान अपने कूल नेचर के लिए जाने जाते हैं। उनका लोगों से पेश आने का तरीका बेहद खास है। कहा जाता है कि किंग खान ने आज तक किसी से भी बेअदब से बात नहीं है, ना ही आज तक किसी के साथ बेरुखी से पेश आए है। अभी हाल ही में विक्की कौशल के पिता शाम कौशल शाहरुख के तारीफों के पुल बांधते हुए नजर आए हैं। बता दें कि शाम कौशल लगभग 21 साल से शाहरुख खान के साथ काम कर रहे हैं। उन्होंने एक किस्सा सुनाते हुए बताया कि एक्टर के अच्छे बर्ताव ने उनके पूरे परिवार का दिल जीत लिया था। 

शाम कौशल ने सुनाया फिल्म ‘अशोका’ का किस्सा  

एक इंटरव्यू के दौरान शाम कौशल ने फिल्म ‘अशोका’ के दौरान का किस्सा शेयर किया। उन्होंने बताया कि शाहरुख फिल्म ‘अशोका’ में एक सीन की शूट कर रहे थे, इस सीन में उन्हें करीना कपूर को गुंडों से बचाना था। इस निर्देशन संतोष सिवान ने किया है। शाम कहते हैं, फिल्म की शूटिंग के दौरान शाहरुख खान ने मुझे गले लगा लिया। उस मूमेंट की वजह से मुझे बहुत ही पॉजिटिव फील हुआ। मुझे यह बात अच्छे से पता थी कि शाहरुख घोड़ों के साथ फाइट सीन करने में कंफर्टेबल नहीं हैं, लेकिन बावजूद इसके उन्होंने इस बात को बिल्कुल भी जाहिर होने नहीं दिया। इस बात ने मेरा दिल जीत लिया कि उन्होंने मुझपर भरोसा जताया। 

इसके अलावा एक शाम फिल्म ‘डॉन’ की शूटिंग के बारे में बात करते हुए कहा कि इस दौरान हम जब का का सीक्वेंस शूट कर रहे थे, इसके लिए स्टंटमैन का इंतजाम किया था। लेकिन जब शाहरुख खान ने पूरे सीन को समझा तो उन्होंने कहा कि उन्हें ये करना है। शाहरुख की बातों ने उन्हें बहुत हैरान किया। उनका कहना है कि जब भी वो उस सीन को देखते हैं उनके रोंगटे खड़े हो जाते हैं। 

शाहरुख ने ‘ओम शांति ओम’ में खुद किए स्टंट 

वहीं, ‘ओम शांति ओम’ के सेट का किस्सा शेयर करते हुए कहते हैं, इस फिल्म में आग वाले सीन को लेकर मैं बेहद इमोशनल हो गया था। हम जानते थे की वो सीन बेहद रिस्की था। इस सीन की शूटिंग के दौरान लगभग 125 लोग शूट के लिए मौजूद थे। क्योंकि अगर इस दौरान जरा भी लापरवाही हो जाती तो सबकी जान खतरे में पड़ सकती थी।

लेकिन फिर भी शाहरुख पास आकर कहते हैं कि कोई बात नहीं पाजी मैं यहां से निकल जाऊंगा। शाहरुख कहते हैं, आप टेंशन मत लो।’ जबकि उस सीन के लिए दीपिका पादुकोण के लिए तो बॉडी डबल का इस्तेमाल किया गया था। शाम ने कहा, ‘मैं उन्हें रियल ‘पठान’ मानता हूं उनमें डर नाम की कोई चीज नहीं है।’

इंडस्ट्री को लेकिन चाहिए शाहरुख से सीख 

शाम कहते हैं कि हिंदी फिल्म इंडस्ट्री को शाहरुख से सीख लेनी चाहिए कि डाउन टू अर्थ इंसान कैसे बना जाता है। इस बात को कहते हुए भी उन्होंने एक अवार्ड शो का किस्सा शेयर किया। उन्होंने कहा, ‘मैं एक अवॉर्ड शो में पीछे बैठा था। उस शो को शाहरुख और मेरा बेटा विक्की होस्ट कर रहा था। तभी एकदम शाहरुख ने पूछा कि मैं ऑडियन्स में हूं कि नहीं। सारे कैमरा मेरी तरफ घूम गए।

वहां मैं अपनी पत्नी वीणा के साथ बैठा था। इसपर शाहरुख कहते हैं, ‘जब मैं इंडस्ट्री में नया आया था तुम्हारे पापा ने मुझे बहुत कुछ सिखाया है।’ उन्होंने लाइव अवार्ड शो के उन्होंने और भी बहुत सी कहानियां सुनाई। उस समय मेरी उस पल मैं और मेरी पत्नी भावुक हो गए थे। बाद में विक्की ने बताया था कि यह किसी स्क्रिप्ट का हिस्सा नहीं था। 

लोकेन्द्र शर्मा प्राधान सम्पादक न्यूज मेनिया पिछले 10 सालों से वेब समाचार की दुनिया में कार्यरत हैं। आपने Wittyfeed, Laughing Colours, MP news, News Trend, Raj express, Ghamasan news जैसी संस्थाओं में अपनी सेवाएं दी हैं। तथा वर्तमान में आप हमारी संस्था के साथ जुड़ कर लोगों के इंटरटेनमेंट का ध्यान रख रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.