पुलिस का बड़ा खुलासा : तीन गाड़ियां भर कर जय वाजपेयी आया था विकास दुबे को बचाने, मगर…

“मैं विकास दुबे हूँ, कानपुर वाला….” मध्यप्रदेश के उज्जैन में आज तक यह बात गूंज रही है। दरअसल जब यहां पर पुलिस ने विकास दुबे को थप्पड़ मार तो उसने कुछ ऐसे ही अंदाज में जवाब दिया था। वहीं अब यह बात भी सामने आ रही है कि जिसने इस खूंखार अपराधी को पकड़ाया था उन मंदिर कर्मचारियों को अब परेशान किया जा रहा है। इसके अलावा पुलिस ने खुलासा किया है कि विकास दुबे को बचाने के लिए उसके साथी तीन गाड़ी भर कर आये थे। 

पुलिस के अनुसार जैसे ही विकास दुबे की उज्जैन से गिरफ्तारी की खबर फैली वैसे ही उसके साथियों ने उसे बचाने की भी योजना बना ली थी। इस योजना को बनाने में जय बाजपेयी ने अहम भूमिका निभाई थी। इसके लिए उसने तीन कारों का इंतजाम किया था जिसमें वो अपने दोस्तों को बैठा कर ले गया था। 

जिन तीन कार को ले कर जय आया था इसमें फॉर्च्यूनर, ऑडी और वेरेना शामिल थी। पुलिस ने कहा कि उसने अपने साथी विकास गुप्ता को बचाने की पूरी योजना बना ली थी मगर उसने जैसे ही विजय नगर में पुलिस वालों का पहरा देखा तो वो डर गया और अपनी गाड़ियों को विजय नगर ही छोड़ कर भाग गया। जय जिन गाड़ियों से आया था उसे पुलिस ने जब्त कर लिया है। 

बता दें कि उत्तर प्रदेश पुलिस ने इस बात का खुलासा जय को पकड़ने के बाद उसे रिमांड पर की गई पूछताछ में लिया। पुलिस का कहना है कि इसमें से ऑडी कार खुद जय बाजपेयी चला रहा था। वहीं फॉर्च्यूनर कार जय का दोस्त राहुल चला रहा था। तथा वर्ना गाड़ी के लिए उन्होंने एक ड्राइवर रखा था। हालांकि आरोपियों ने अपने इन बयानों को कोर्ट के सामने स्वीकार करने से साफ मना कर दिया है। उनका कहना है कि वे निर्दोष है मगर पुलिस उन्हें जबरन फसाना चाहती है।

वहीं जय के परिवार वाले भी पुलिस पर आरोप लगा रहे हैं। उनके अनुसार पुलिस उन्हें उनके बेटे से मिलने नहीं दे रही है। बात करें जय के दोस्त राहुल सिंह की तो पुलिस ने उसकी संपत्ति कुर्क करने का निर्णय ले लिया है, अब जल्द ही इस पर कार्यवाही भी देखने को मिल सकती है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.