“मैं अर्नब हूँ ! तुम मेरा कुछ नहीं बिगाड़ सकते, अर्नब पर लगाया अन्वय नाइक की बेटी ने धमकाने का आरोप

अर्नब गोस्वामी इन दिनों पुलिस की हिरासत में है, उन पर जान देने के लिए उकसाने का आरोप है। मामला दो साल पुराना है जब इंटीरियर डिजाइनर ने अपनी माँ के साथ मिल कर जान दे दी। दो साल पहले कहा गया था इस मामले में कोई सबूत नहीं है इसलिए इसे बंद किया जाता है। वहीं अब दो साल बाद इस मामले को फिर से खोला गया है। वहीं अब इस मामले पर सियासत भी गर्मागयी है। बता दें मामला कॉनकॉर्ड डिजाइन्स प्राइवेट लिमिटेड के प्रबंध निदेशक अन्वय नाईक का है। उन्होंने जाने से पहले एक नोट भी लिखा था जिसमें उन्होंने अर्नब और दी अन्य लोगों पर पैसे नहीं देने का आरोप लगाया था। 

खबरों के अनुसार अन्वय के परिवार का कहना है कि अर्नब की वजह से ही आज वे इस दुनिया में नहीं है। अर्नब ने उनका बकाया नहीं चुकाया इसलिए उन पर दबाव पड़ रहा था जिसके बाद उन्होने यह कदम उठाया।  गौरतलब है कि मामले को 2019 में बंद कर दिया गया था मगर 2020 में गृहमंत्री अनिल देशमुख ने इस मामले को फिर खोलने के आदेश दिए। वहीं अन्वय की बेटी ने एक मीडिया हाउस को दिए इंटरव्यू में इस मामले से जुड़े और पहलू भी बताये। 

उनके अनुसार अन्वय नाइक को 2016 में रिपब्लिक टीवी ने एक प्रोजेक्ट दिया, जिसमें 6.4 करोड़ का काम दिया गया था। नियत समय पर प्रोजेक्ट को पूरा कर दिया गया, प्रोजेक्ट में जानबूझ कर कुछ गड़बड़ निकाली गई और उन्हें बदलने पर मजबूर किया गया। इतने बदलाव के बाद भी प्रोजेक्ट समय पर सौंप दिया गया। 

इतने दबाव और परेशानी में काम करने के बाद भी काम पूरा किया गया मगर उसके बाद भी उनसे कहा गया कि उनको पैसा नहीं मिलेगा। अर्नब ने बीच प्रोजेक्ट में उनके पिता से कहा था कि वो जो चाहे कर सकते हैं उन्हें पैसे नहीं मिलेंगे। इंटीरियर डिजाइनर की बेटी के अनुसार अर्नब ने कहा था कि “मैं अर्नब हूं! मैं आपको दिखाऊंगा कि मैं क्या कर सकता हूं। आप बेशक महाराष्ट्रियन हो मेरा कुछ भी नहीं कर सकते।”

उनके अनुसार हम इसके बाद पुलिस कर पास भी जाना चाह रहे थे मगर मेरे पापा बहुत डर गए थे। अर्नब ने उन्हें धमकी दी थी कि वो मेरा भी करियर खत्म कर देगा। वो समय था जब मैं इंटर्नशिप कर रहा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.