अर्नब गोस्वामी के पीछे हाथ धो कर पड़ी मुम्बई पुलिस, न्यूज़ रूम के अंदर घुसना चाहते हैं परमबीर सिंह

रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क की मुश्किलें इन दिनों बढ़ती हुई दिखाई दे रही है। बता दें कि पिछले दिनों रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क का नाम टीआरपी स्कैम में आया था। जिसके बाद चैनल ने मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह के खिलाफ बहुत सी खबरें प्रसारित की। जिसके चलते रिपब्लिक पब्लिक मीडिया के कर्मचारियों के खिलाफ मुंबई पुलिस का नाम खराब करने और पुलिस कर्मियों के बीच कमिश्नर को लेकर असहमति पैदा करने के लिए शिकायत दर्ज हुई।

चैनल को मुंबई पुलिस द्वारा नोटिस भेजा गया था। जिसके बाद चैनल के 4 कर्मचारियों से पूछताछ भी हुई। लेकिन यह सिलसिला यहीं नहीं रुका। अब मुंबई पुलिस द्वारा रिपब्लिक पब्लिक मीडिया नेटवर्क को एक और नोटिस भेजा गया है। 

आउटपुट डेस्क से जुड़े मांगे हैं विवरण

रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क ने पुलिस द्वारा दिए गए दूसरे नोटिस के बारे में बताया है कि, पुलिस ने उनसे न्यूज़ डेस्क पर काम करने वाले हर कर्मचारी की डिटेल्स मांगी है। इसके साथ ही पुलिस ने उनसे आउटपुट डेस्क से जुड़े हुए सारे विवरण भी मांगे हैं। पुलिस ने चैनल से 

न्यूज़ रूम के सॉफ्टवेयर की डिटेल्स और लॉगिन गतिविधियां, ब्रॉडकास्ट रनडाउन डिटेल्स, स्टाफ शिफ्ट टाइमिंग, न्यूज़ रूम में कार्यकृत हर एक मेंबर की रिस्पांसिबिलिटीज और डिटेल्स भी मांगी है। चैनल ने इसकी अलावा यह भी कहा कि, पुलिस उनके न्यूजरूम में घुसकर बिना किसी तथ्य के सारी निजी जानकारियां हासिल करना चाहती हैं। जिसके लिए चैनल पुलिस को अनुमति नहीं दे सकता। 

आउटपुट डेस्क द्वारा दिया गया कंटेंट ही पढ़ा गया

इस मामले में शुक्रवार को मुंबई पुलिस ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बताया है कि, पुलिस ने चैनल के 4 कर्मचारियों से पूछताछ की है। पूछताछ के दौरान उन्हें पता चला की न्यूज़ में एंकर और रिपोर्टर द्वारा वहीं कंटेंट बोला गया है। जो न्यूज़ डेस्क ने तैयार करके दिया था। रिपोर्टर को जो भी कंटेंट दिया जाता है उन्हें वही पढ़ना होता है।

इसीलिए इसमें उन्हें दोष नहीं दिया जा सकता। जिसके बाद मुंबई पुलिस ने रिपब्लिक मीडिया से आउटपुट डेस्क और शिफ्ट टाइमिंग से जुड़ी कुछ डिटेल मांगी है। इसके अलावा पुलिस ने चैनल से कोई भी डिटेल नहीं मांगी।

चैनल के दावे को बताया गलत

पुलिस का कहना है कि, चैनल यह दावा कर रहा है कि पुलिस ने उनके चैनल की निजी जानकारियां मांगी है। जबकि यह बात बिल्कुल गलत है। पुलिस ने उनसे इतनी सारी जानकारी नहीं मांगी है। चैनल अपनी पब्लिसिटी के लिए इस बात को बढ़ा चढ़ा कर बता रहा है। वही रिपब्लिक मीडिया का कहना है कि, वह मुंबई पुलिस को न्यूज़ रूम में यह भी हालत में नहीं घुसने देंगे।

चैनल ने मुंबई पुलिस की इस कार्यवाही को अवैध बताया है। चैनल का कहना है कि, पुलिस उनकी जानकारियां बटोर कर उनके खिलाफ रणनीति तैयार करने की कोशिश कर रही है। चैनल की इस लड़ाई में उन्होंने जनता से समर्थन देने की भी अपील की है। चैनल ने यह भी कहा है कि अब वह मुंबई पुलिस को किसी भी प्रकार की जानकारी नहीं देंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.