नारकोटिक्स डिपार्टमेंट को लगा बड़ा झटका, ड्रग्स मामले में अपने बयान से पलटे परिहार और जैद

दिवंगत एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत की जांच सीबीआई को सौंपी गई थी, मगर जैसे ही इस केस की लिंक ड्रग्स से जुड़ी तो इस केस में एंट्री नारकोटिक्स डिपार्टमेंट की भी हो गयी। नारकोटिक्स डिपार्टमेंट ने ताबड़तोड़ तरीके से कार्यवाही करते हुए दो आरोपी जैद विलात्रा और अब्दुल बासित परिहार को गिरफ्तार किया था। जिन्होंने नारोकोटिक्स डिपार्टमेंट को काफी राज़ बताए थे। मगर अब खबर आ रही है कि यह दोनों अपने बयान से पलट गए हैं। बता दें इन्हीं के बयानों के आधार पर रिया चक्रवर्ती के भाई शौविक, मैनेजर सैमुअल मिरांडा और डॉमेस्टिक हेल्पर दीपेश सावंत की गिरफ्तारी की गई थी। 

दरअसल जैद विलात्रा और परिहार ने कोर्ट को एक अर्जी दी है, जिसमें यह दावा किया गया है कि एनसीबी के अधिकारियों ने जबरदस्ती उनके बयान रिकॉर्ड किए थे। बता दें की इस समय विलात्रा और परिहार एनसीबी के पास न्यायिक हिरासत में हैं। वहीं जब इन दोनों को ड्रग्स मामले में जब मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट कोर्ट के सामने पेश किया गया, तो इन आरोपियों ने अपने बयान को स्वीकार करने से साफ मना कर दिया।

इससे पहले जैद विलात्रा को 3 सितंबर के दिन गिरफ्तार किया गया था और मजिस्ट्रेट कोर्ट के सामने पेश किया गया था। वहीं, परिहार को एनसीबी की टीम द्वारा उसके एक दिन बाद यानी 4 सितंबर को मजिस्ट्रेट कोर्ट के सामने पेश किया गया था। दरअसल पूरे मामले को विलात्रा और परिहार के वकील तारक सैयद ने बताया, उन्होंने कहा ‘जब विलात्रा और परिहार को अदालत में पेश किया गया तो हमने कोर्ट में यह अर्जी दाखिल की। दोनों ने एनसीबी अधिकारियों के सामने दिए गए बयानों को वापस ले लिया, इसके बाद इनके द्वारा जमानत की मांग की गई।’

तारक सैयद ने कोर्ट में दलील देते हुए कहा था कि, ‘जो अपराध विलात्रा और परिहार ने किया है वो एक जमानती अपराध है। साथ ही, इसमें शामिल ड्रग्स की मात्रा बेहद कम है जोकि आरोपी को जमानत का हक देता है।’ बता दें कि, मजिस्ट्रेट कोर्ट ने उनकी इस जमानत याचिका पर संज्ञान लेते हुए इसे खारिज कर दिया था। वहीं, इससे पहले नारकोटिक्स डिपार्टमेंट ने अब्बास अली लखानी (21) नाम के व्यक्ति को 28 अगस्त के दिन 46 ग्राम गांजा के साथ गिरफ्तार किया था। लखानी के बयानों के आधार पर उसके सप्लायर कर्ण अरोड़ा को 13 ग्राम गांजा के साथ नारकोटिक्स डिपार्टमेंट ने गिरफ्तार किया था। इसके बाद दोनों से मिली जानकारी आधार पर नारकोटिक्स डिपार्टमेंट ने 3 सितंबर को विलात्रा और परिहार को गिरफ्तार किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.