NCB के किये धरे पर सर्वोच्च न्यायालय ने फेरा पानी, सुशांत मामले में अब नए सिरे से दायर करनी होगी याचिकाएं

दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत मामले में आये नए एंगल की जांच कर रही नसीब को सर्वोच्च न्ययालय के फैसले से धक्का मिला है। साफ तौर पर कहा जाए तो अधिकारियों की अभी तक की मेहनत पर सर्वोच्च न्यायालय के इस फैसले ने पानी फेर दिया है। दरअसल जिन सबूतों के दम पर NCB पिछले कुछ महीनों से ताबड़तोड़ कार्यवाही करते हुए बॉलीवुड के अधिकतर सेलिब्रिटियों पर नकेल कस रहा था उसे कोर्ट ने पूरी तरह से अस्वीकार कर दिया है। कोर्ट के इस फैसले के बाद अब बॉलीवुड के कलाकार राहत की सांस ले रहे हैं।

गौरतलब है कि बॉलीवुड में फैले मादक पदार्थ की जांच NCB द्वारा की जा रही थी। सुशांत की प्रेमिका रिया और उसके भाई शौविक के साथ अभिनेता के हाउस कीपर को भी इस मामले में गिरफ्तार किया गया था। मगर अब जिनके पास से सबूत बरामद किए गए थे वही अब गिरफ्तारी में रहेंगे वहीं जिन्हें दूसरे के कहने पर गिरफ्तार किया गया था उन्हें जमानत दे दी गयी है।

 अभी तक ऐसा होता आ रहा था की NCB के सामने किसी के कुछ कह देने भर से ही किसी को आरोपी मान लिया जाता है। यही वजह है कि सारा अली खान, दीपिका पादुकोण जैसी कई नामचीन हस्तियों को NCB के मुख्यालय में हाजरी देने के लिए जाना पड़ा। जांच विभाग ने कई बड़ी हस्तियों को दूसरे शहरों से भी बुलाया ममगर किसी के खिलाफ कोई सबूत हाथ नहीं लगा। इसके साथ ही कुछ अन्य सितारों के नाम भी इसमें शामिल हुए। 

वहीं करण जौहर की कंपनी में काम करने वाली कर्मचारी ने भी जांच विभाग पर यह आरोप लगाया था कि पूछताछ के दौरान बार-बार उनसे करण जौहर का नाम लेने के लिए दाबाव बनाया जा रहा था। वहीं दीपिका की मैनेजर का नाम आने के बाद भी बार-बार अभिनेत्रि का नाम जोड़ा जा रहा था। कुछ लोगों का कहना है कि ऐसा साजिश के तहत किया जाता है। 

यही दलीलें सर्वोच्च न्ययालय के समक्ष भी थी जिस पर फैसला देते हुए कोर्ट ने बॉलीवुड के सितारों को राहत की सांस दी है। कोर्ट ने अपने फैसले में साफ तौर पर कहा है कि किसी के भी कहने भर से किसी को भी आरोपी नहीं माना जा सकता। वहीं मुम्बई NCB भी अभी तक इस तरह से ही जांच कर रही थी, अब उसे नए सिरे से याचिका देनी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.