रांची की सरिता को घर में बांधकर रखते थे मां-बाप, सोनू सूद को पता चला तो तुरंत किया वीडियो कॉल

बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद ने लॉकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों की बहुत मदद की है। सोनू सूद ने हजारों मजदूरों को उनके घर सुरक्षित पहुंचाया। इसके साथ ही उनके खाने-पीने और रोजगार की भी व्यवस्था की है। यह सब करके सोनू सूद आम जनता के लिए मसीहा बन गए हैं। यहां तक कि लोगों का उन पर विश्वास इतना बढ़ गया है कि लोग सरकार की जगह उन्हीं से ही मदद मांग रहे हैं। अनलॉक के बाद हालात सुधरने के बावजूद भी लोगों ने सोनू सूद से मदद मांगना नहीं छोड़ा है।

उन्हें आज भी सोशल मीडिया पर हजारों मैसेज आते हैं जिसमें उनसे किसी न किसी प्रकार की मदद मांगी जाती हैं। पिछले दिनों सोनू सूद ने ट्विटर पर सरिता नाम की लड़की के बारे में पढ़ा। लड़की की हालत के बारे में सुनकर सोनू सूद बहुत इमोशनल हो गए। उन्होंने उसी वक्त वीडियो कॉल करके लड़की के बारे में पूरी जानकारी मांगी और उसकी मदद करने की ठान ली।

7 साल से है भूलने की बीमारी

बता दें कि पिछले दिनों एक सोशल वर्कर ने सोनू सूद को ट्वीट करते हुए रांची के चान्हो की रहने वाली 13 वर्षीय लड़की सरिता के बारे में बताया। सरिता के बारे में जानकार सोनू सूद इतने परेशान हो गए कि उन्होंने उसी वक्त वीडियो कॉल करके सरिता की पूरी इंफॉर्मेशन मांगी। बता दे कि सरिता को पिछले 7 सालों से भूलने की बीमारी डिमेंशिया हैं।

सरिता के मां-बाप बहुत गरीब हैं और उसका इलाज नहीं करवा पा रहे हैं। इसी वजह से उन्हें सरिता को घर में बांध कर रखना पड़ता है। क्योंकि अगर वह बाहर चली जाती है तो फिर वह घर का रास्ता या फिर घर आना भूल जाती हैं। सोनू सूद को जब यह पता चला तो उन्होंने तय किया कि वह सरिता को इस बीमारी से राहत दिलाएंगे। उन्होंने उसके इलाज की पूरी जिम्मेदारी अपने ऊपर ले ली है।

मुख्यमंत्री ने भी दिए इलाज कराने के आदेश

सोशल मीडिया पर जब सरिता की कहानी वायरल हुई उसके बाद मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने भी इस मामले में एक्शन लिया। उन्होंने रांची के कलेक्टर को आदेश दिया है कि वह सरिता के इलाज का पूरा प्रबंध करें। खबर के मुताबिक अब सरिता के इलाज की जिम्मेदारी प्रदेश सरकार उठाएगी। उसका इलाज रांची के एक अस्पताल में किया जाना है। खबर है कि इलाज की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। डॉक्टर्स को उम्मीद है कि सरिता जल्द ही ठीक हो जाएगी। 

फेक लोगों की मदद करने का लगा था आरोप

पिछले दिनों सोशल मीडिया पर सोनू सूद पर फेक लोगों की मदद करने का आरोप लगाया गया था। कई लोगों का मानना था कि सोनू सूद असल में किसी की मदद नहीं कर रहे। यह सब केवल उनकी पीआर टीम का काम है। यह पब्लिसिटी स्टंट है जो कि उनकी पीआर टीम उन्हें फेमस करने के लिए उनसे करा रही है।

हालांकि इस मामले में कई लोगों ने सोनू सूद का सपोर्ट किया है। लोगों का मानना है कि एक अभिनेता के लिए किसी की भी तकलीफ समझकर उसकी मदद करना बहुत बड़ी बात है। सोनू सूद ने यह करके दिखाया है। जिसके लिए उनकी जितनी भी सराहना की जाए वह कम है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.