मदर्स डे पर पूजा भट्ट ने दिया बड़ा बयान, कहा – हमेशा माँ ही बलिदान देती है, मगर अब भूमिका बदलनी होगी

माँ का तो यूं पूरा ही जीवन होता है, मगर उनके इस पूरे जीवन का बखान करने और उन्हें खास शुक्रिया कहने के लिए साल में एक दिन निर्धारित किहा गया है जो मई के दूसरे रविवार को आता है। यह दिन दुनिया की तमाम उन माताओं को समर्पित है जो बिना किसी स्वार्थ के अपने बच्चों पर बेशुमार प्यार बरसाती हैं। कहा जाता है कि माँ ममता की मूरत है और माँ कभी भी अपने बच्चों के लिए कभी ह्रदय से कठोर नहीं हो सकती। यही वजह है कि जब भी त्याग की बात आती है, माँ ही सबसे पहले आती है। ऐसे में फ़िल्म स्टार पूजा भट्ट ने मातृ दिवस पर एक ऐसा बयान दिया जो हो सकता है कि आने वाले समय में बड़ा मुद्दा बन कर सामने आए। और इस मुद्दे पर चर्चा आज ही से शुरू हो गयी है।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Pooja B (@poojab1972)

गौरतलब है कि पूजा भट्ट का अंदाज बेबाक है, वे अपनी सोच को लोगों के सामने रखने में झिझकती नहीं है। इस बार भी पूजा भट्ट ने फिल्मों में दिखाए जा रहे माँ के किरदार पर सवालिया निशान खड़े किये हैं। नेटफ्लिक्स के ज़रिए अपने ओटीटी प्लेटफार्म पर डेब्यू की तैयारी कर रही पूजा भट्ट जल्द ही बॉम्बे बेगमस में नज़र आने वाली हैं। इस वेब सीरीज में वे एक माँ के किरदार में नज़र आने वाली हैं जो कि अलग अंदाज में दर्शकों के समक्ष प्रस्तुत किया जाएगा। अपने इसी किरदारा पर पूजा भट्ट ने यह बातें की। 

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Pooja B (@poojab1972)

इंटरव्यू में पूजा भट्ट कहती है कि ‘मुझे एक मां का किरदार निभाना हमेशा से ही काफी पसंद है और इसे करने पर मुझे बहुत खुशी भी मिलती है। मेरी दोनों वैब सीरीज जख्म और बॉम्बे बेगम्स दोनों में ही मां के किरदार में महिलाओं की एक अलग ही भूमिका बताने का प्रयास किया गया है। अगर बात फिल्मों में मां के किरदार के किरदार की करें तो अब तक हमने देखा कि एक मां ही हर बार बलिदान देती नजर आती है। मगर अब इसे बदलने की जरूरत है।’

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Pooja B (@poojab1972)

पूजा अपनी बात रखते हुए आगे कहती है कि “अब दर्शक स्क्रीन पर एक बेबस लाचार मां नहीं देखना चाहते लिहाजा इसमें बदलाव होना चाहिए। और हम इसे बदलने की तरफ आगे भी बढ़ गए हैं। हालांकि इसके बाद भी हम अभी भी वो सफलता हासिल नहीं कर पाए जो करनी थी। क्योंकि अभी सफर बहुत लंबा है। और इस पर हमको अभी बहुत काम करना है।” 

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Pooja B (@poojab1972)

इसके आगे पूजा कहती हैं कि, ‘फिल्मों में एक मां की भूमिका केवल बलिदान के रूप में नहीं दिखाया जाना चाहिए जो कि अपने परिवार के लिए अपने सपने, अपनी ख्वाहिशें सब दांव पर लगा देती है। मैंने भी बॉम्बे बेगम्स में मां का किरदार निभाया लेकिन परिवार के साथ-साथ मैंने अपने सपनों को भी अहमियत दी।’ बता दें कि मुम्बई बॉम्बे बेगम्स में पूजा भट्ट ने रानी ईरानी का किरदार निभाया है जो खुद एक माँ है, दर्शकों को पूजा का यह किरदार भी काफी

Leave a Reply

Your email address will not be published.