प्रसून जोशी ने तोड़ी सुशांत की मौत पर चुप्पी, बोले – मर्डर से बड़ी और गंभीर समस्या है सुसाइड

सुशांत सिंह राजपूत की मौत शुरुआत से ही सवालों के घेरे में है। सबसे पहले जहां मुंबई पुलिस ने इसे सुसाइड का मामला करार करते हुए जांच की थी। वही सुशांत के पिता केके सिंह की शिकायत के बाद केस को सीबीआई को सौंप कर इसकी जांच मर्डर के एंगल से भी करने की मांग की गई। हालांकि अब उनकी मौत के तीन महीने बाद एम्स की रिपोर्ट से ये साफ हो चुका है कि सुशांत ने आत्महत्या ही की थी। मर्डर एंगल को इस रिपोर्ट ने सिरे से खारिज कर दिया गया है। सोशल मीडिया पर एम्स कि इस रिपोर्ट पर कई तरह के सवाल उठाए जा रहे है। सुशांत के फैन्स और परिवार इस रिपोर्ट से दुखी हैं और लगातार अपना अविश्वास जाहिर कर रहे हैं।  इस बीच अब CBFC चीफ और  जाने-माने राइटर प्रसून जोशी ने सुशांत की मौत पर रिएक्ट किया है। प्रसून के अनुसार मर्डर से ज्यादा बड़ी परेशानी आत्महत्या है।

सुसाइड को बताई एक बड़ी गंभीर बीमारी

प्रसून जोशी ने अपने इंटरव्यू के दौरान सुशांत सिंह राजपूत की विसरा रिपोर्ट के बाद उनकी मौत को आत्महत्या करार कर दिए जाने के पर कहा है कि, मर्डर से बड़ा सुसाइड होता है। प्रसून जोशी के अनुसार कोई भी व्यक्ति सुसाइड जैसा कदम काफी मुश्किल परिस्थितियों में उठाता है। उन्होंने आगे कहा कि सुसाइड मर्डर से ज्यादा बड़ा होता है। मर्डर में तो फिर भी कोई दोषी होता है‌। सुसाइड एक तरह की बीमारी है। ये तब देखने को मिलता है जब कुछ सही नहीं होता है, लोग असुरक्षित महसूस करते हैं‌। ये छोटी बात नहीं है‌। किसी भी इंसान के लिए अपना जीवन खत्म कर लेना आसान नहीं होता। उसे कोई ना कोई बड़ी परेशानी हुई ऐसा कदम उठाने पर मजबूर कर सकती है। इसीलिए इंडस्ट्री को इसे गंभीरता से लेना चाहिए। अगर कोई व्यक्ति कार्य में सफलता हासिल कर रहा है तो लोगों को समझना चाहिए की कुछ हिट फिल्में देने से कुछ नहीं होता। यह उसके खुश रहने की गारंटी नहीं है क्योंकि जिंदगी फिल्मों से बड़ी होती है।

संवेदनशील होते हैं आर्टिस्ट, उनके लिए पैसा नहीं है अहम

सुशांत की मौत के बाद कई लोगों ने यह सवाल खड़े किए थे कि सुशांत का करियर इतना अच्छा चल रहा था तो फिर वे सुसाइड कैसे कर सकते हैं। वहीं प्रसून जोशी ने अपने इंटरव्यू में लोगों को इस बात पर गौर करने के लिए समझाया है कि हमें उन परिस्थितियों को समझने की जरूरत है जिसकी वजह से ऐसा कदम उठाया जाता है। वहीं प्रसून ये भी मानते हैं कि एक आर्टिस्ट के लिए पैसे से ज्यादा मायने रखती है किसी की जिंदगी‌। वे हमेशा पैसों से ऊपर जिंदगी को रखते हैं। पैसा तो वे  अपने जीवन में बहुत कमा लेते हैं। लेकिन आर्टिस्ट काफी संवेदनशील होते हैं। सबसे बुरी बात तो यह है कि आर्टिस्ट अपने इमोशंस लोगों के सामने जाहिर नहीं कर पाते उन्हें अपनी एक इमेज मेंटेन करनी होती है। जिसकी वजह से वह अंदर ही अंदर घुटते रहते हैं‌।

कंगना रनौत का कर चुके हैं समर्थन

पिछले कुछ दिनों से प्रसून जोशी लगातार ऐसे बयान दे रहे हैं। हाल ही में उन्होंने ड्रग्स केस पर रिएक्ट करते हुए कंगना रनौत का समर्थन किया था। उन्होंने कहा था कि कंगना रनौत की बात को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। जो वे कह रही हैं, उस बारे में भी गंभीरता से सोचना चाहिए । उनकी नजरों में ड्रग्स एक समस्या है और उससे भागा नहीं जा सकता। इंडस्ट्री से ड्रग्स को जड़ से खत्म किया जाना बहुत जरूरी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.