जेल में कैदियों संग किया करती थी रिया चक्रवर्ती यह काम, वकील सतीश मानशिन्दे ने खुद किया खुलासा

दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत केस में ड्रग चैट वायरल होने के बाद NCB के शिकंजे में फंसी रिया चक्रवर्ती पिछले एक महीने से भायखला की जेल में बंद थी। बुधवार के दिन हाईकोर्ट ने मामले में सुनवाई करते हुए रिया चक्रवर्ती को जामनत दे दी। जामनत मिलने के बाद शाम को रिया को जेल से रिहा किया गया फिलहाल वो अपने घर में हैं। वहीं जेल में किस तरह रिया रहती थी, क्या करती थी और क्या खाती थी जैसे सवाल अब चर्चा का विषय बन चुके हैं, और अब उनके जवाब खुद उनके वकील सतीश मानशिन्दे ने दिए है। रिया के वकील ने बताया कि उनकी क्लाइंट ने किस तरह जेल में समय बिताया। बता दें कि पिछले महीने की 8 तारीख को रिया को गिरफ्तार किया गया था, तब से ही वो जेल में बंद थी। 

रिया चक्रवर्ती के जेल से निकलने के बाद सतीश मानशिन्दे ने मीडिया से बात की उन्होंने बात करते हुए रिया को बंगाल बाघिन की उपमा दी। उनके अनुसार बंगाल की बाघिन की अगली लड़ाई अपनी छवि को फिर से साफ करने की होगी। सतीश मानशिन्दे के अनुसार जेल जैसी विपरीत परिस्थिति में भी रिया सकारात्मक रहने का प्रयास कर रही थी। 

मीडिया से बात करते हुए उन्होंने आगे कहा कि मैं काफी सालों बाद किसी क्लाइंट से मिलने जेल गया था, क्योंकि रिया के पीछे जांच एजेंसियां बुरी तरह से पड़ी हुई थी और उन्हें परेशान कर रही थी। मुझे देख कर खुद को आश्वस्त करना था कि वो जेल में अच्छे से रह रही हैं। मैनें जब रिया को जेल में देखा तो मुझे छह देख कर अच्छा लगा कि वो वहां भी सकारात्मक जीवन जी रही हैं। वह वहां अच्छे से रह रही थीं, अपना ध्यान रख रहीं थी, वो जेल कर बाकी कैदियों के लिए योग क्लास ले रही थीं, उन्हें योगा सीखा रही थी। उन्होंने खुद को जेल के जीवन में ढाल लिया था। चूंकि जेल में कोरोना ली वजह से घर का खाना इन दिनों नहीं ले जाने दिया जाता था, ऐसे में रिया भी बाकी कैदियों की तरह ही वहां रह रही थी।

रिया चक्रवर्ती एक आर्मी ऑफिसर की बेटी हैं और उन्होंने युद्ध जैसे माहौल में रहना सिख लिया है। अब उन्हें ज़िन्दगी में कोई भी परिस्थिति डिगा नहीं सकती, झुका नहीं सकती। इसके अलावा रिया के वकील का कहना है कि रिया उन सभी बेवकूफों से लड़ेगी जो उनकी छवि को खराब करने की कोशिश में दिन रात लगे हुए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.