शेखर सुमन ने 13 जून की रात रिया- सुशांत की मुलाकात पर उठाए सवाल, बोले अब तक कहां था गोपीचंद जासूस

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद उनके लिए न्याय मांगने की मुहिम उनका परिवार और उनके फैंस जोरों शोरों से चला रहे हैं। बॉलीवुड के कुछ सितारे इस मुहिम का हिस्सा बने हैं। जिसमें शेखर सुमन का नाम सबसे पहले आता है। शेखर सुमन शुरुआत से ही सुशांत के लिए न्याय मांग रहे हैं। अपने बयानों में उन्होंने नेपोटिज्म से लेकर बॉलीवुड में हो रहे ड्रग्स के सेवन तक का विरोध किया है। पिछले दिनों मीडिया में यह खबर आई थी कि रिया चक्रवर्ती सुशांत सिंह राजपूत से उनकी मौत की एक रात पहले यानी की 13 जून की रात को मिली थी। यह दावा करने वाले व्यक्ति ने यहां तक कहा था कि सुशांत रिया को छोड़ने के लिए उनके घर तक गए थे। इस खबर पर अपनी चुप्पी तोड़ते हुए शेखर सुमन ने इस घटना के चश्मदीद को ‘गोपीचंद जासूस’ कहते हुए यह सवाल उठाया है कि पिछले 3 महीने से वह चुप क्यों था।

ट्वीट करके बोले- अभी तक फोकट की छुट्टी मना रहे थे क्या गोपीचंद?

शेखर सुमन ने मीडिया में आई इस खबर पर अपना गुस्सा जाहिर करते हुए ट्वीट किया है। शेखर सुमन ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि,’ अब कोई गुमनाम पुंथरू आया है,जो कह रहा है कि रिया सुशांत से 13 जून की रात को मिली थी। भाई कुछ भी, कुछ भी, अब तक तुम कहां थे गोपीचंद जासूस? फुकेत में फोकट का हॉलीडे ले रहे थे या फिर भांग खाकर सोए हुए थे। शेखर सुमन ने इस इस ट्वीट के बाद अपनी दूसरी ट्वीट में यह भी सवाल उठाया है कि यह लोग कहीं से भी इस तरह की इंफॉर्मेशन लेकर हाईलाइट होने के लिए खुद आते हैं या फिर न्यूज़ चैनल अपनी टीआरपी रेटिंग को बढ़ाने के लिए खुद इन्हें तैयार करता है। शेखर के अनुसार इस इंफॉर्मेशन की कोई बुनियाद नहीं होती और ना ही उसका कोई निदान निकलता है।

सुशांत की मौत मामले में गिरफ्तारी न होने पर भी उठाए सवाल

शेखर सुमन ने अपने एक दूसरे ट्वीट के जरिए अभी तक सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में कोई भी गिरफ्तारी न होने पर सवाल खड़े किए हैं। शेखर सुमन ने अपने ट्वीट में लिखा है कि, सुशांत सिंह राजपूत की मौत को 108 दिन हो गए लेकिन अभी तक उनकी मौत के दोषी पकड़े नहीं गए। शेखर का कहना है कि 108 दिन में जहां एक भी मेंडक नहीं पकड़ा गया तो फिर दोषी क्या पकड़े जाएंगे। उन्होंने आगे कहा कि बोल-बोल कर थक चुके हैं पर अब हद हो चुकी है। इस बीच चरस गांजा से लेकर अनुराग कश्यप, हाथरस, बालमपुर, सब हो गया 1 लाख कोविड पेशेंट भी मर गए। क्या अब भी इस गुत्थी को सुलझाने के लिए और समय चाहिए। आपको बता दें कि इससे पहले भी शेखर सुमन सुशांत सिंह राजपूत की मौत की गुत्थी सुलझाने में हो रही देरी को लेकर अपनी चिंता जता चुके हैं। उन्होंने इससे पहले भी ट्वीट करके कहा था कि उन्हें यह नहीं जानना है कि बॉलीवुड में कौन ड्रग्स लेता है यह उनके साथ क्या होता है। उन्हें तो बस इतना जानना है कि सुशांत को किसने मारा और क्यों? शेखर सुमन लगातार सुशांत सिंह राजपूत के लिए न्याय की मांग कर रहे हैं वही उनकी मौत के बाद जून में वे सुशांत के परिवार से मिलने पटना भी गए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.