सुशांत केस में शिवसेना का बयान, कहा – अगर इस पूरे मामले में CBI जांच पर भी यकीन नहीं किया गया तो…

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) के एक पैनल द्वारा सुशांत सिंह राजपूत की विसरा रिपोर्ट आने के बाद काभी हंगामा मचा हुआ है। इसी हंगामें में अब शिवसेना भी कूद गई है, शिव सेना ने इस पूरे मामले पर बयान जारी करते हुए कहा कि अगर अब लोग इस केस में सीबीआई की जांच पर भी सवाल उठाएंगे तो फिर उनके पास कहने को कुछ नहीं बचेगा।

शिवसेना नेता संजय राउत ने आरोप लगाया कि शुरुआत से ही महाराष्ट्र सरकार और मुंबई पुलिस को बदनाम करने की साजिश रची जा रही है, जो पहले सुशांत सिंह राजपूत की मौत की जांच कर रहे थे।

संजय राउत ने अपने बयान में कहा कि न्यूज़ एजेंसी ANI के अनुसार 34 साल के एक एक्टर ने आत्महत्या कर ली इसके साथ ही उन्होंने तंज कसते हुए लिखा कि “यह (एम्स की रिपोर्ट) डॉ. सुधीर गुप्ता की रिपोर्ट के अनुसार, जो सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में एम्स फॉरेंसिक मेडिकल बोर्ड के प्रमुख हैं। उनका कोई भी राजनीतिक संबंध नहीं है, या वो किसी भी माध्यम से शिवसेना से जुड़े हुए नहीं है।”

उन्होंने आगे कहा कि “शुरुआत से ही, इस मामले में, महाराष्ट्र सरकार और मुंबई पुलिस को बदनाम करने की साजिश रची जा रही है। यदि अब CBI जांच पर भी भरोसा नहीं किया जा रहा है, तो हम अवाक हैं।”

गौरतलब है कि राउत की टिप्पणी राजपूत के परिवार के उस बयान में बाद आई है जिसमें उनके वकील विकास सिंह ने AIIMS की रिपोर्ट को गलत बता कर नई फोरेंसिक टीम का गठन करने का अनुरोध किया था। उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा था कि“एम्स रिपोर्ट के साथ अत्यधिक परेशान। एक नई फोरेंसिक टीम गठित करने के लिए सीबीआई निदेशक से अनुरोध करने के लिए जा रहे हैं। एम्स की टीम शरीर की अनुपस्थिति में एक निर्णायक रिपोर्ट कैसे दे सकती है, वह भी कूपर अस्पताल द्वारा किए गए ऐसे घटिया पोस्टमार्टम पर जिसमें मृत्यु के समय का भी उल्लेख नहीं किया गया है।”

बता दें कि वकील विकास सिंह ने पहले भी दावा किया था कि एम्स पैनल का हिस्सा बनने वाले एक डॉक्टर ने उन्हें “बहुत पहले” बताया था कि अभिनेता की तस्वीरों से पता चलता है कि यह गला घोंटने से मौत थी न कि आत्महत्या। राजपूत 14 जून को अपने बांद्रा अपार्टमेंट में मृत पाए गए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.