सुशांत मामला : मुम्बई हाईकोर्ट पहुंचे ED, NCB और CBI, कही यह बात

दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के मीडिया ट्रायल मामले में अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल अनिल सिंह ने केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI), नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB), प्रवर्तन निदेशालय (ED) जो सुशांत सिंह राजपूत के मामले में अलग-अलग एंगल से जांच कर रहे हैं, कोर्ट को बताया कि कभी भी किसी भी समय किसी भी जानकारी को लीक नहीं किया, वह 14 जून को अपने मुंबई आवास में आखरी बार पाए गए थे।

सुशांत सिंह राजपूत मामले में टेलीविजन चैनल कवरेज पर याचिका सेवानिवृत्त पुलिस अधिकारियों के एक समूह द्वारा दायर की गई थी, जिन्होंने दावा किया था कि ऐसी भी जानकारी चैनलों द्वारा प्रसारित की जा रही है जो प्रसारित नहीं कि जानी चाहिए।

याचिकाकर्ताओं ने इन सूचनाओं के स्रोत पर सवाल उठाते हुए पूछा कि क्या जांच करने वाली टीम ​​ऐसी जानकारी को लीक कर रही हैं, जो उन्हें नहीं करनी चाहिए। एजेंसियों ने अपने हलफनामों में कहा कि वे अपनी जिम्मेदारियों से वाकिफ हैं। एएसजी ने कहा, “हम अपनी जिम्मेदारियों को जानते हैं और किसी भी एजेंसी द्वारा जानकारी लीक करने का कोई सवाल ही नहीं है।”

बता दें कि सीबीआई उन परिस्थितियों की जांच कर रही है जिनके कारण बॉलीवुड अभिनेता को खोना पड़ा, एनसीबी अवैध सामग्री के कोण की जांच कर रही है और ईडी बॉलीवुड अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती के खिलाफ मनी-लॉन्ड्रिंग के आरोपों की जांच कर रही है। जांच चल रही है।

मुख्य न्यायाधीश दीपांकर दत्ता और न्यायमूर्ति जी एस कुलकर्णी की पीठ ने उस जनहित याचिकाओं पर अंतिम बहस की सुनवाई कर रही थी जिसमें कहा गया था कि मीडिया को अभिनेता मामले की जांच के कवरेज में संयमित रहने के लिए कहा जाए।

न्यायमूर्ति ने कहा “मीडिया तब (अतीत में) तटस्थ था। अब यह अत्यधिक ध्रुवीकृत हो गया है … यह विनियमन का सवाल नहीं है, यह जांच और संतुलन का सवाल है। लोग भूल जाते हैं कि रेखाएँ कहाँ खींचनी हैं। इसे लाइनों के भीतर ही करें।” इसकी सुनवाई अगले हफ्ते तक जारी रहेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.