सुशांत केस : रिया ने कहा कि वो विच हंटिंग का शिकार हो रही है, जानिए आखिर यह होती क्या है ?

दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत केस में ड्रग एंगल की जांच कर रही नारकोटिक्स डिपार्टमेंट ने रिया चक्रवर्ती को ड्रग का सेवन करने और उसे खरीदने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया था और वो अभी न्यायिक हिरासत में भायखला की जेल में बंद है। वहीं रिया की तरफ मुम्बई हाई कोर्ट में एक अर्जी भी डाली गई है। अपनी याचिका में रिया ने कहा कि वो पूरी तरह से निर्दोष है और नारोकोटिक्स डिपार्टमेंट उन्हें जान बूझ कर परेशान कर रहा है। इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा कि वे विच हंटिंग का शिकार हो रहीं है। जिसका मतलब होता है संदिग्ध व्यक्तियों की तलाश अभियान का शिकार। 

अपनी जामनत याचिका में रिया ने कहा कि वो फिलहाल महज़ 28 साल की है और नारकोटिक्स डिपार्टमेंट की जांच के साथ-साथ वो पुलिस और तीनों केंद्रीय जांच एजेंसी की जांच झेल रही है। इसके साथ ही उस पर मीडिया ट्रायल भी चल रहा है। इसके साथ ही उसने अपनी याचिका में अपने साथ हो रही विच हिंटिंग का भी जिक्र किया, आइये जानते हैं आखिर क्या होती है विच हिंटिंग और यह किस तरह काम करती है। 

सबसे पहले आपको बता दें कि ‘विच हंटिंग’ को ‘संदिग्थ व्यक्तियों की तलाश अभियान’ के नाम से जाना जाता है। इस स्थिति में किसी व्यक्ति या किसी ग्रुप पर इल्जाम लग जाने के बाद किसी ठोस सबूत के ना होने पर भी लोग उसे आरोपी मानना शुरू कर देते हैं और उसके खिलाफ अफवाह का बाज़ार गर्म हो जाता है। इसी को विच हिंटिंग कहा जाता है। हालांकि सामान्य तौर पर तो कोर्ट सुनवाई के बाद फैसला सुनाता है, मगर इन मामलों में दोष सिद्ध होने से पहले ही उसे गुनाहगार मान लिया जाता है, और कोर्ट के बाहर उसे तरह तरह की सजा भी सुनाई जाती है। यह एक मानसिक प्रताड़ना का भी कारण बनता है। आमतौर पर आदमियों के लिए इस तरह के शब्द का उपयोग नहीं किया जाता मगर जब किसी महिला को ले कर मीडिया ट्रायल चलता है तो उसे विच हिंटिंग की श्रेणी में रखा जाता है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.