रिया का बड़ा दावा : सुशांत को सताता था गिरफ्तारी का डर, इन दो तरीकों से छुपाते थे ड्रग

नारकोटिक्स डिपार्टमेंट फिलहाल बॉलीवुड के लिए मुसीबतों की सौगात के कर आया है। दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपुत मामले में ड्रग एंगल की जांच कर रही नारकोटिक्स डिपार्टमेंट को “बॉलीवुड की ड्रग गैंग” के खिलाफ कई अहम सुराग मिले हैं। वहीं रिया चक्रवर्ती भी ड्रग का सेवन करने और एक्टर को मुहैया करने के आरोप में भायखला की जेल में कैद है। उन पर आरोप है कि उनका संबंध ड्रग पैडलर्स से था, तथा वो ही अपने भाई शौविक और दीपेश सावंत को पैसे दे कर ड्रग लाने के आदेश देती थी। 

जेल में रिया से नारकोटिक्स डिपार्टमेंट की टीम घंटो पूछताछ करती है। जिसमें वे कई बड़े खुलासे कर रही है, वहीं सुशांत के बारे में भी कई दावे कर रही है। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार हाल ही में रिया ने सुशांत को ले कर कहा है कि वे गिरफ्तारी के डर से बहुत डरते थे। यही वजह है कि वे ड्रग को कभी भी अपने पास नहीं रखते थे।

नारकोटिक्स डिपार्टमेंट के सामने रिया ने कहा है कि सुशांत कभी भी अपने पास ड्रग नहीं रखती थी। ड्रग या तो हाउस मैनेजर सैमुअल मिरांडा के पास रहता था या दीपेश सावंत के पास रहता था। जब भी सुशांत को ड्रग की जरूरत होती थी तब यही दोनों उन्हें रोल करके देते थे। रिया चक्रवर्ती के इस बयान की पुष्टि सामने आई ड्रग चैट भी करती है, जिसमें वो ग्रुप में मैसेज करती हैं भैया ज्वाइंट रोल कर दो। इसके अलावा दीपेश सावंत ने भी इस बात को स्वीकार किया है कि वे सुशांत को ज्वाइंट रोल करके देते थे। 

रिया ने अपने बयान में कहा है कि सुशांत गिरफ्तारी से बहुत डरते थे। वहीं रिया और सुशांत अलग अलग गाड़ी में बाहर निकला करते थे।  पुलिस और नारकोटिक्स डिपार्टमेंट से बचने के लिए यह इन दोनों की गाड़ियों के पीछे जो गाड़ी रहती थी उसमें ड्रग को रखते थे। जिससे अगर पुलिस या नारकोटिक्स डिपार्टमेंट की टीम पकड़े तो गाड़ी फंसे और यह दोनों बच जाए। 

View this post on Instagram

बाज़ीचा-ए-अत्फ़ाल है दुनिया, मेरे आगे होता है शब-ओ-रोज़ तमाशा, मेरे आगे मत पूछ कि क्या हाल है मेरा तेरे पीछे  तू देख कि क्या रंग है तेरा, मेरे आगे नफ़रत का गुमाँ गुज़रे है, मैं रश्क से गुज़रा  क्योंकर कहूँ, लो नाम न उनका मेरे आगे ईमाँ मुझे रोके है, जो खींचे है मुझे कुफ़्र काबा मेरे पीछे है, कलीसा मेरे आगे आशिक़ हूँ, पे माशूक़-फ़रेबी है मेरा काम  मजनूं को बुरा कहती है लैला, मेरे आगे हमपेशा-ओ-हमशरब-ओ-हमराज़ है मेरा 'ग़ालिब' को बुरा क्यों, कहो अच्छा, मेरे आगे

A post shared by Sushant Singh Rajput (@sushantsinghrajput) on

इसके अलावा रिया कहती है कि उनको इतना ज्यादा डर लगता था कि वे ड्रग के लिए ड्रग पैडलर्स से बात भी अपने फोन से नहीं करते थे। या तो वे मेरे फोन का उपयोग करते थे, या शौविक का या अपने स्टाफ के किसी मेंम्बर को ड्रग लाने का कह देते थे। रिया ने यह भी कहा है कि फिलहाल सुशान्त का फोन उनके पास नहीं है इसलिए इस बारे में वो और कुछ नहीं कह सकती। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.