सिद्धार्थ पीठानी की गिरफ्तारी पर सुशांत के पारिवारिक वकील ने दी प्रतिक्रिया, CBI की चार्जशीट पर भी कही यह बात

14 जून को सुशांत को इस दुनिया को अलविदा कहे एक साल का वक्त होने वाला है। हालांकि अभी तक जांच एजेंसियों को इस मामले में कोई पुख्ता सबूत हाथ नहीं लगे हैं। उनका यूं रहस्यमय ढंग से जाना आज भी एक रहस्य बना हुआ है। इस मामले की प्रारंभिक जांच मुम्बई पुलिस कर रही थी मगर सुप्रीम कोर्ट के हस्तक्षेप के बाद इस मामले को अब CBI, NCB तथा ED को सौंप दिया गया है। सीबीआई अभी तक इस मामले पर किसी भी तरह के नतीजे पर नहीं पहुंच पाई है। ED ने अपनी जांच में इस मामले में ड्रग एंगल को निकाला इसके बाद नारकोटिक्स डिपार्टमेंट की टीम ने कार्यवाही करते हुए कई लोगों को हिरासत में लिया। 

इस पूरे मामले पर अब सुशांत सिंह राजपूत के परिवार के वकील विकास सिंह ने बयान दिया है। उन्होंने कहा – सीबीआई चार्जशीट दाखिल या कुछ भी ऐसा फाइल करने की जल्दबाजी नहीं करेगी जिससे उल्टे उसी पर सवाल उठें। वे मामले में कई ऐंगल से जांच कर रहे हैं जिनमें से मदर भी एक है। सुशांत का मामला अभी भी रहस्य है और इसके कोई दो रास्ते नहीं हो सकते हैं जबतक कि आप इस रहस्य को नहीं सुलझा लेते तब तक अधपकी कहानियां बनाने का कोई मतलब नहीं है और इसीलिए वे (सीबीआई) अपना वक्त ले रहे हैं और हमें उम्मीद है कि जल्द ही कुछ न कुछ सामने आएगा।’

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Siddharth pithani (@pithanisiddharth)

अभी हाल ही में नारकोटिक्स डिपार्टमेंट ने कार्यवाही करते हुए एक बार फिर सिद्धार्थ पीठानी को हैदराबाद से गिरफ्तार किया। इस पर अपनी बात रखते हुए विकास सिंह ने कहा ‘मुझे पूरी उम्मीद है कि वे रहस्य से पर्दा उठा पाएंगे और वे इस पर काम कर रहे हैं। जहां तक सिद्धार्थ पिठानी की गिरफ्तारी का सवाल है तो यह एक तरह का ‘पोएटिक जस्टिस’ है कि वह कम से कम जेल तो गए हैं।’

गौरतलब है कि सिद्धार्थ पीठानी वही शख्स है जो सुशांत के साथ उनके ड्रीम प्रोजेक्ट ‘ड्रीम 150’ पर काम कर रहे थे। वहीं 14 जून को सुशांत को विक्षिप्त अवस्था में देखने वाले सुद्धार्थ पीठानी ही पहले व्यक्ति थे, इस मामले पर सीबीआई ने भी उनसे घंटो पूछताछ की थी। विकास सिंह ने इस पूरे मामले में आगे कहा – ‘मैं यह बात काफी समय से कह रहा हूं कि उनकी गिरफ्तारी होनी चाहिए और इसका कारण है कि जब रिया चक्रवर्ती वहां से चली गई थीं तो सिद्धार्थ ही सुशांत के साथ उस दिन मौजूद थे। सिद्धार्थ ने ही कमरा खोला था, चाबी वाले को बुलाया था और सुशांत के शरीर को नीचे उतारा था। इसलिए वह केस में हर तरह से महत्वपूर्ण हैं। निश्चित तौर पर वह इसमें शामिल होंगे।’

Leave a Reply

Your email address will not be published.