16 साल से हर शुक्रवार को दुल्हन बन जाती है यह लड़की, वजह है काफी दिलचस्प

यूं तो हर लड़की का ख़्वाब होता है कि वो ज़िन्दगी में एक बार दुल्हन जरूर बने, मगर क्या आपने सुना है कि कोई लड़की हर हफ्ता दुल्हन बनती हो? जी हां, एक ऐसी ही लड़की है पाकिस्तान में जिसे दुल्हन बनने का इतना शौक है कि वो हर शुक्रवार को दुल्हन बन जाती है। जिस लड़की के बारे में हम बात कर रहे हैं वो 42 साल की हीरा जीशान है और वो लाहौर के पंजाब प्रांत की है। हीरा के अनुसार वो पिछले 16 साल से निरंतर अपने आपको दुल्हन की तरह सजाती आ रही है, जिसमें वो सोलह श्रृंगार करती है। वहीं जब हीरा से यह करने की वजह पूछी गयी तो उन्होंने इसके पीछे की बड़ी दुखभरी कहानी सुनाई।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Zayan Zeeshan (@heerazeeshan3)

हीरा के अनुसार यह घटना 16 साल पहले की है जब उनकी माँ एक दिन बेहद बीमार पड़ गयी थी। माँ की हालत को देखते हुए उन्हें फटाफट अस्पताल में भर्ती करवाया दिया गया। उनकी माँ की एक ही आखरी इच्छा थी और वो यह कि अपनी बेटी को वो दुल्हन बनते हुए देखे। बस फिर क्या था माँ की इच्छा को पूरा किया गया और ब्लड डोनेट करने आये शख़्स से ही निकाह फिक्स करा दिया गया। 

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Zayan Zeeshan (@heerazeeshan3)

चूंकि यह माँ की अंतिम इच्छा थी तो लिहाजा हीरा ने भी इसमें असहमति नहीं दर्शाई और माँ की खुशी के लिए निकाह के लिए हां कर दी। इसके बाद अस्पताल में ही शादी की तमाम रस्में निभाई गयी काजी को बुलाया गया और निकाह संपन्न करवा दिया गया। इसके बाद बारी थी बिदाई की जो हीरा की रिक्शे में हुई। 

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Zayan Zeeshan (@heerazeeshan3)

हीरा की शादी काफी जल्दबाजी में हुई थी, लिहाजा एक लड़की के तौर पर अपनी शादी में सजने संवरने की उनकी ख़्वाहिश महज़ एक ख़्वाहिश ही रह गयी। वहीं दूसरी तरफ माँ की तबियत कुछ ज़्यादा ही खराब होने लगी और वे इस दुनिया से चल बसी, माँ के गुजरने के बाद हीरा को अवसादों ने घेरना शुरू कर दिया। वहीं इसके अलावा उन दिनों वो खुद भी माँ बनने वाली थी, लेकिन दिमागी कठिनाई का सामना कर रही हीरा स्वस्थ बच्चों को जन्म नहीं दे पाई, और उसके दो बच्चे बिना सांसों के इस धरती पर आए। 

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Zayan Zeeshan (@heerazeeshan3)

अपने साथ घट रही घटनाओं से हीरा बुरी तरह से टूट चुकी थी, यही वजह है कि उसके अवसाद और ज़्यादा उस पर हावी होने लगे थे। इसी अवसाद से निजात पाने के लिए हीरा ने एक युक्ति सोची और हर शुक्रवार को दुल्हन के जैसे साज श्रृंगार करने लगी। उनका यह अनोखा आईडिया कारगर भी साबित होने लगा। और धीरे – धीरे वे अवसाद से बाहर आने लगी। हीरा के अनुसार दुल्हन बनने से उनके दिल को सुकून मिलता है और इससे वे अब अपनी ज़िंदगी खुशी से बसर कर रही है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.