इस देश की महिला सैनिकों को पहनने पड़ते है पुरुषों के अंडरवेयर, यह है पूरा मामला

कहते हैं बीते दिनों से चली आ रही कुछ चीज़ों को बदल देना चाहिए, क्योंकि परिवर्तन प्रकृति का नियम है। मगर इसके बाद भी कई ऐसी चीजें जिसे सालों तक इंसान बदल नहीं पाता। ऐसा ही कुछ स्विट्जरलैंड की महिला सैनिकों के साथ भी है। यहां महिला सैनिकों को स्विस आर्मी के आदेशानुसार पुरुषों की तरह ही जेंट्स अंडरवेयर पहनना पड़ता है। हालांकि सालों बाद अब इस मामले में संज्ञान लिया जा रहा है, और कहा जा रहा है कि जल्द ही इस व्यवस्था को बदल दिया जाएगा। स्विट्जरलैंड की लोकल मीडिया का मानना है कि ऐसा होने के बाद यहां महिला सैनिकों की संख्या में इजाफा होगा। 

 इस पूरे मामले में जानकारी देते हुए स्विस आर्मी के प्रवक्ता काज गनर सिएवर्ट ने एक लोकल वेबसाइट से बात करते हुए बताया कि मिलिट्री से मिलने वाले कपड़े और कुछ अन्य चीजें अब बीते दौर की बातें हो गयी हैं, इसमें कुछ परिवर्तन करने की आवश्यकता है। उनके अनुसार वक्त के साथ हर चीज़ों में बदलाव होना बेहद जरूरी है। जो ड्रेस आर्मी को वितरित की जाती थी वो अब चलन में नहीं हैं। वहीं उपलब्ध होने वाली चीजों से डील करना महिला सैनिकों के लिए भी काफी मुश्किल भरा था। लिहाजा हम इस पूरे मामले में एक बड़ा और प्रभावशाली कदम उठाने जा रहे हैं। 

स्विस आर्मी प्रवक्ता काज गनर सिएवर्ट ने आगे बताया कि हम महिला सैनिकों को गर्मियों में शार्ट अंडरवेयर और सर्दियों में लांग अंडरवियर मुहैया करवाएंगे। सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि कॉम्बेट क्लोदिंग, प्रोटेक्टिव वेस्ट और बैकपेक को भी आधुनिकता के अनुसार डिजाइन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि हमारा उद्देश्य यूनिफॉर्म को फिट और फंक्शनल करना है। 

गौरतलब है कि स्विट्जरलैंड की मौजूदा यूनिफॉर्म 80 के दशक से चली आ रही है। सदियों बाद इस यूनिफॉर्म को बदलने के इस निर्णय की स्विट्जरलैंड की रक्षा मंत्री वायोला एमहर्ड ने भी तारीफ की है। वहीं स्विस नेशनल काउंसिल की सदस्य मेरिएन बाइंडर भी सेना के इस निर्णय का स्वागत करते हुए कहती है कि इससे स्विस सेना की तरफ महिलाएं पहले से ज़्यादा आकर्षित होंगी। और सेना में महिलाओं की भागीदारी पहले के तुलना में बढ़ेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.